प्यार के ज़ख़्म

प्यार के ज़ख़्म

गहराई प्यार मे हो तो बेवाफवीई नही होती, सचे पियर मे कभी तन्हाई नही होती , मगर प्यार ज़रा संभाल कर करना, कियोकि, प्यार के ज़ख़्म की कोई दबायनाह्ी होती…. हे दोस्टतो मेरा नामे शानू हे मे आपको मेरी सहही

Read More

फ़ेसबुक लव स्टोरी

10 डेक 2010 को मैं पहली बार गोल्डी से फ़ेसबुक पर मिला हम दोनो आचे फ्रेंड थे देखते ही देखते मुझे उससे प्यार हो गया ओर इस हड्द तक हुआ की मुझे हर जघा वो ही दिखाई देती थी बस

Read More

चारू – एक लड़की की स्टोरी

मेरा नाम “चारू” है और आज मैं आपसे अपने रियल लोवे स्टोरी शेर करने जा रहे हू उमीद करते हू आपका कोई ना कोई जवाब ज़रूर आएगे. प्लीज़ मेरे इस स्टोरी को आचे से पढ़ना. एक लड़की जिसका नाम ‘’चारू”

Read More

मोहब्बत की हवेली जिस तरह नीलाम हो जाए

मोहब्बत की हवेली जिस तरह नीलाम हो जाए हुमारा दिल सवेरे का सुनहेरा जाम हो जाए, चिरागो की तरह आँखें जले जब शाम हो जाए, कभी तो आसमान से चाँद उतरे जाम हो जाए, तुम्हारे नाम की एक खूबसूरत शाम

Read More

ज़िंदगी फिर कहाँ मिलती हे

ज़िंदगी फिर कहाँ मिलती हे पानी से तस्वीर कहाँ बनती है, ख्वाबो से तकदीर कहाँ बनती है, किसी को चाहो तो सकचे दिल से, कञूनकी यह ज़िंदगी फिर कहाँ मिलती हे

Read More

अक्सर ज़िंदगी उनके लिए अंधुरी रह जाती है जो इसे पूरी तरह जीना चाहते है

अक्सर ज़िंदगी उनके लिए अंधुरी रह जाती है जो इसे पूरी तरह जीना चाहते है सुभह का टाइम मुझे सबसे अछा लगता है क्यूंकी इसी टाइम मुझे लिखना सबसे अछा लगता है…मैं भोथ खुश हू की आप सभी को मेरा

Read More

कुछ शब्द उसकी कलम से

कुछ शब्द उसकी कलम से सयद मेरी ज़िंदगी में किसी को कोई दिल चस्पी नही होगी..पर हम जिस्म भेचने वाली औरटॉान/ लड़कियो का भी दिल होता है..हम मा के पेट से सोच के नही आते की बड़े होके,,”धंधे वाली” बनेंगे…सयद

Read More

मेरी अधूरा प्यार संगीता

मेरी अधूरा प्यार संगीता मी डियर लोवे वाइफ बिट्टू ये कहानी कुछ साल पुरानी बात ये कहानी शुरू हुई थी फेब 2008 से जहा मे जॉब करता था वही पास बिट्टू रहती थी उसका ओरिज्णल नाम स वर्ड से श्रु

Read More

हमारी एक दर्द भरी कहानी

वो जो कहते है ना की सांस के बिना ज़िंदगी अड़ूरी होती है…..ज़िंदगी तो है मेरे पास अभ एक सांस की ज़रूरत है.वो सांस जो ज़िंदगी भर मेरा साथ दे………. …….ई लोवे उ अमरा ही…….मेरा नाम वृं है..ओर जिसे में

Read More

प्यार सज़ा या ज़न्नत

प्यार सज़ा या ज़न्नत मैं उन दीनो भोथ अकेला था और कुछ मेरी टीन आगे का भी जादू था त मैं अपने दोस्तो साइ लारडकियों की फोन नो माँगा करता था और फरन्डस ने दिए भी आख़िर दोस्त जो थे

Read More